Faraz Shayari Collection in Hindi 2 lines Love Sher o Shayari on Life

फर्जी बातों और हरकतों से दूरी बना कर फर्ज़ो को महत्व देने और अपने फ़र्ज़ को निभाने को प्रेरित करने वाला Faraz Shayari Collection और प्यार जिंदगी Life पर 2 Lines sher o shayari शायरी Status Quotes हिंदी Hindi में,

Faraz Shayari Collection in Hindi Two Line

बड़ा नही है वो जो निभा रहा रिश्ता बेहतर बड़ा वही है जो पूरा किया है फ़र्ज़ बेहतर,

bada nhi hai wo jo nibha rha rista behtar bada wahi hai jo pura kiya ha farz behatar,

कृष्ण ने तो जन्म ही लिया था अपने भगवान होने का फ़र्ज़ निभाने के लिए, जो भी दुष्ट पाप करे उसको मिटाने के लिए

krshn ne to janm hee liya tha apane bhagavaan hone ka farz nibhaane ke liye, jo bhee dusht paap kare usako mitane ke liye

निभा निभा कर चलता था थक कर लौट गया वो फ़र्ज़! जिसे पूरा करने में मुझपर ही चढ़ गया है क़र्ज़,

nibha nibha kar chalta tha thak kar laut gya wo farz! jise pura karne me mujhpar hi chad gya hai karz,

अकेले बैठे हुए वो उदास सा दिखने लगे थे दूरियों को बढ़ा कर जो फ़र्ज़ निभाने लगे थे

akele baithe hue vo udaas sa dikhane lage the dooriyon ko badha kar jo farz nibhaane lage the

कभी नही मिल पायेगा जो जीवन कर्म किया था! उसका भाल अब कर्म से ज्यादा मिल हरा है जो लोगो के साथ निभाया अपना फ़र्ज़

kabhi nhi mil payega jo jivan karm kiya tha! uska bhal ab karm se jada mil hara hai jo logo ke sath nibhaya apna farz

Faraz Shayari 2 lines on Life

दुनिया छोड़ आए है हम फ़र्ज़ के खातिर! जीवन ईमानदारी से बिताएँगे अब ना मुस्कुरायेंगे है! छिपाने दर्द के खातिर

duniya chhod aye hai hum farz ke khatir! jivan imandari se bitayenge ab naa muskurayenge hai! chipane dard ke katir

हो गया है इश्क़ मुझे अपने जी ज़माने से! जिसमे मैंने अपना फ़र्ज़ निभाते निभाते! दूरिया ही बना लिया दुनिया से

ho gya hai ishq mujhe apne ji jamane se! jisme maine apna farz nibhate nibhate! duriya hi bana liya duniya se

भाई बहन का फ़र्ज़ एक दूसरे के साथ रहने में है हर वक़्त न की सिर्फ जरुरत ही दोनों को करीब लाती रहे,

bhaee bahin ka farz ek doosare ke saath rahane mein hai har vaqt na kee sirph jarurat hee donon ko kareeb laatee rahe,

भरोसा ही फ़र्ज़ निभाने की प्रेरणा देता है! जो मिल जाये उस पर ना पछताने की प्रेरणा देता है!

bharosa hee farz nibhaane kee prerana deta hai jo mil jaaye us par na pachhataane kee prerana deta hai

आना कभी हमारे घर सन्तुष्टि से स्वागत करवाएंगे!, जो भी हो सकेगा हमसे दे कर फ़र्ज़ निभाएंगे

ana kabhi humare ghar santushti se swagat karwayenge!, jo bhi ho sakega humse de kar farz nibhayenge,

फ़र्ज़ Sher o Shayari in Hindi 2 lines

कोई कभी भी आपको वो नहीं देगा जो आपको चाहिए! वो वही देगा जो उसके निभाने वाले फ़र्ज़ को करना चाहिए

koi kabhi bhi apko wo nahi dega jo apko chahiye! wo wahi dega jo uske nibhane wale farz ko karna chahiye

अपने अपना फ़र्ज़ तो अदा कर दिया मेरे मदद करते करते! पर उस ज़माने फरमान का क्या करे जो छोड़ गया मुझे हस्ते हस्ते

apne apna farz to adaa kar diya mere madad karte karte! pr us jamane farman ka kya kare jo chhod gya mujhe haste haste

इश्कबाज था नजारा उसका जो कर्ज में डूबा बैठा था अपने ही खुशियों से परेशान होने वाले मर्ज़ से उबा बैठा था

ishkabaaj tha najaara usaka jo karj mein dooba baitha tha apane hee khushiyon se pareshaan hone vaale marz se uba baitha tha

अपने तो वो काम किया ही नही जिससे मेरे फ़र्ज़ आपकी खातिर खड़ा हो जाये! हम तो पास आना ही चाहते थे मेरा दिल भी तेरे करीब आजाये,

apne to wo kaam kiya hi nhi jisse mere farz apki khatir khada ho jaye! hum to pas ana hi chahte the mera dil bhi tere karib ajaye,

हमारी तुम्हारी एक दूसरे के आने के इंतज़ार ने ही हमारे तुम्हारे हिस्से का प्यार बन गया जो बिता हुआ कल था वो अब करीबी यार बन गया,

hamaaree tumhaaree ek doosare ke aane ke intazaar ne hee hamaare tumhaare hisse ka pyaar ban gaya jo bita hua kal tha vo ab kareebee yaar ban gaya,

Faraz 2 liners Status

मैंने जीवन भर वही किया जो मुझे सही लगता था पर अपने Farz को समझना ही भूल गया

maine jivan bhar wahi kiya jo mujhe sahi lagta tha pr apne farza ko smjhna hi bhul gya

हर कदम पर साथ निभाए कोई मेरे अपने ही कदम जो छूट रहे है उससे तो कदम मिलाए कोई

har kadam pr sath nibhaye koi mere apone hi kadam jo chhut rahe hau usse to kadam milaye koi

अपने मेरे करीब आते मेरे मुक्कदर को तो देख लिया पर कितने सिकन्द को मैंने दबाने में जीवन लगा दिया उसको देखना ही भूल गए

apne mere karib aate mere mukkadar ko to dekh liya pr kitne sikanad ko maine dabane me jivan laga diya usko dekhna hi bhul gaye

मैंने अक्सर लोगो से अपने ही हित बात पर जोर देते देखा है! बैठे हुए उदासी में थे जब तो बदल में हित करने की सोचा है

maine aksar logo se apne hi hit baat pr jor dete dekha hai baithe huye udasi me the jab to badal me heet karne ki socha hai

आज नहीं तो कल पर वो बात याद आएगी! जो छोड़ दिया था उसने बहार जा कर वो लोगो से छूटे हुए साथ याद आएगी,

aaj nahin to kal par vo baat yaad aaegee jo chhod diya tha usane bahaar ja kar vo logo se chhoote hue saath yaad aaegee,

इसे भी पढ़ें:-


Inspirational DeskTopsJobs Desktops!Daily Shopping Board,

Back to top button