Mahabharata quotes

Mahabharata का quotes महाभारत का सबसे मह्त्वपूण हिस्सा है भगवान् श्री कृष्ण द्वारा दिया गया! अर्जुन को गीता का उपदेश,! आज Daily Inspiration Board आपको गीता के उपदेश से कुछ महत्वपूर्ण quotes, आज आपके सामने प्रस्तुत कर रहे है

Mahabharata Quotes

1. तुम इस समय इस मोह माया में क्यों पड़े हो,! इससे कोई लाभ नहीं होगा, और न तो ऐसे काम महान पुरुष करते है,! और नाही ऐसे काम करके तुम स्वर्ग का सुख प्राप्त करोगे,! न ही तुम्हारा और तुम्हारे पूर्वजों का कीर्ति बढ़ेगा,!!

tum es samay es moh maya me kyu pade ho,! esse koi labh nahi hoga, aur na to aise kaaam mahaan purush karte hai,! aur naahi aise kaam karke tum swarg ka sukh prapt karoge, na hi tumhara aur tumhare purvajo ka kirti badhega,

2. नामर्दो वाले काम ना करो, ये तुम्हारे लिए सही नहीं है,! मन में चल रही छोटी छोटी कमजोरियो के बारे में सोचना बंद कर दो,! और जीवन के हर मुसीबत का डट कर सामना करो,

naamardo wale kaam naa karo, ye tumhare liye sahi nahi hai,! man me chal rahi chhoti chhoti kamjoriyo ke bare me sochna band kar do,! aur jivan ke har mushibat ka dat kar samna karo,

3. तुम जिन लोगो के लिए दुखी हो रहे हो वो इस काबिल नहीं है,! तुम ज्ञान की बात करते हो, जो लोग मर गए या जो लोग अभी मरेंगे, ज्ञानी लोग उनके लिए दुःख व्यक्त नहीं करते.

tum jin logo ke liye dukhi ho rahe ho wo es kabil nahi hai, tum gyan ki baat karte ho,! jo log mar gaye ya jo log abhi marenge, gyani log unke liye dukh vyakt nahi karte.

4. ऐसा कोई समय युग और काल नहीं था, जिसमे मै नहीं था, तुम नहीं थे,! और नाही ऐसा है कि आने वाले समय में हम सब नहीं होंगे,

aisa koi samay yug aur kaal nahi tha, jisme mai nahi tha, tum nahi the, aur naahi aisa hai ki ane wale samay me hum sab nahi honge,

More Mahabarat Quote

5. हमारे शरीर के अन्दर आत्मा आती है, फिर बचपन, जवानी और फिर बुढ़ापा आती है, उसी तरह मरने के बाद दूसरा शरीर मिलता है, इस बारे में धीर पुरुष मोह नहीं करते,

humare sharir ke andar atma aati hai,! fir bachpan, javaani aur fir budhapa aati hai, usi tarha marne ke baad dusara sharir milta hai,! es baare me dhir purush moh nahi karte,

6. ठंडी गर्मी सुख दुःख देने वाले शारीरिक इन्द्रियों के संयोग उत्पति और विनाशशील होते है, इसलिए तुमको ये सहन करना चाहिए,

thandi garmi sukh dukh dene wale sharirik indriyo ke sanyog utpati aur vinashshil hote hai, esliye tumko ye sahan karna chahiye,

7. सुख दुःख को एक समान समझने वाले, पुरुष किसी भी हालत से व्याकुल नहीं होते, वह मोक्ष्य को पाने योग्य होते है,

shukh dukh ko ek saman samajhne wale, purush kisi bhi haalat se vyakul nahi hote, vah mokshya ko paane yogya hote hai,

8. जो इस आत्मा को मरता है, या इसे मरा हुआ मनाता है, वो दोनों ही नहीं जानते की आत्मा ना तो किसी को मारता है, और ना ही किसी के द्वारा मारा जाता है

jo es aatma ko marta hai, ya ese mara hua manata hai, wo dono hi nahi janate ki atma naa to kisi ko marata hai, aur naa hi kisi ke dwara mara jaata hai

हम आशा करते है की आपको ये Mahabharata quotes आपको पसंद आया होगा,

Recommendation

आप English में  Quotes पसंद करते है तो आपको इस वेबसाइट www.InspirationalDeskTops.com को विजिट करनी चाहिए,

Back to top button