Tera Hasna Bhi Jannat Hai & Thoda Thoda Pyar Hua Hai | Poem Lyrics

तेरा हारना भी जन्नत है (Tera Hasna Bhi Jannat Hai) और थोड़ा थोड़ा प्यार हुआ है (Thoda Thoda Pyar Hua Hai) ये दो नो कविताये (Poems) आपको यंहा मिलेगा लिरिक्स (Lyrics) के रूप में, ये रोमांटिक कविताएं डेली इंस्पिरेशन बोर्ड आपके सामने प्रस्तुत कर रहा है हिंदी (Hindi) में आपको इन दो नो कविताओ को आनंद लेना चाहिए और अपने पार्टनर को रोमांटिक (Romantic) अंदाज में सुनते हुए उनके दिलो पर अपना असर दिखाना चाहिए,

  1. Tera Hasna Bhi Jannat Hai,
  2. Thoda Thoda Pyar Hua Hai,

Tera Hasna Bhi Jannat Hai | Poem Lyrics

Tera-hasana-bhi-jannat

नई दुनिया बसाने की होड़ लगी थी जमाने में,
जहन्नुम से निकलकर जन्नत में जाने में,

मुझे तो मिल गयी जन्नत तुझे हंसाने में,
तेरा हंसना भी जन्नत है इस जमाने में
,

जुर्रत तो किया लोगों ने मेरे फीलिंग दबाने में,
अकेले छोड़कर गए मुझे वो तहखाने में
,

कई रातें निकल गए तुझे अपना बनाने में,
दोस्तों को छोड़कर तेरे करीब आने में
,

मुझे तो मिल गयी जन्नत तुझे हंसाने में,
तेरा हंसना भी जन्नत है इस जमाने में
,

आंखें गीली हुई तेरी जब देर लगी मुझे तेरी गली में आने में,
जी करता है घर बना लें सड़क के उस किनारे में
,

तू हंसता रहे मुझे देखकर मेरे दलाने में,
मैं खटिया बिछा कर बैठु बस तुझे गुनगुनाने में
,

मुझे तो मिल गयी जन्नत तुझे हंसाने में,
तेरा हंसना भी जन्नत है इस जमाने में
,

मुकम्मल हो गई मेरी हंसती तेरे संग आने में,
दुनिया छोड़ आया हूं तेरे एक बहाने में
,

बरसों बीत गए तुझे अपना बनाने में तेरे करीब आने में,
मुझे तो मिल गई जन्नत तुझे हंसाने में
,

तेरा हंसना भी जन्नत है इस जमाने में (Tera Hasna Bhi Jannat)

मुस्कुराने की वजह ना वो छिन पाएंगे,
बैठकर लगे हैं जो कमियां गिनाने में
,

रोक कर लौट जाएंगे ना वापस फिर वो आएंगे,
लग जाएंगे वो सबको ये बताने में
,

डूब गए ये दोनों एक दूसरे की खुशियां बनाने में,
मुझे तो मिल गई जन्नत तुझे हंसाने में,
तेरा हंसना भी जन्नत है इस जमाने में
,

दुरी बढ़ सी गयी थी लग जब गया था पैसे कमाने में,
बच्चों के लिए कपड़े किताब लाने में,
उनकी जरूरतों को पूरा कर उनका जीवन बनाने
,

वापस खींच मैं खुद को लाया हूं खुद से मिलाने में,
बीते हुए पलों को फिर से पलकों पर सजाने मे
,

दफन करके खुशियां जो बैठी थी अपने फर्ज निभाने में,
जियो ना फिर से करें उस दलाने में
,

जहां पर बैठकर लगा था मैं तुझे हंसाने में,
तेरा हंसना भी जन्नत है इस जमाने में
,


कविता का नैतिक

अपनों को इस कविता तेरा हंसना भी जन्नत है इस जमाने में से अपनों के चेहरे पे हसीं बनाए रखने के लिए काम करने और उसी को प्राथमिकता देने और सभी को खुश रखने की प्रेरणा मिलती है, और इस कविता (Tera Hasna Bhi Jannat Hai) का आपके सामने प्रस्तुत करने की यही सबसे बड़ा उद्देश्य है, हमे आशा है की आप इसके अर्थ को समझ कर अपने जीवन और अपने जीवन साथ को हमसे खुश रहने और मुस्कुराने के कारण उत्पन्न करते रहेंगे,



Thoda Thoda Pyar Hua Hai | Poem Lyrics

Thoda Thoda Pyar Hua Hai

चार दिन के जीवन मे दो दिन गुजर गया है।
थोडे बचे जिवन मे मुझ तुमसे प्यार हुआ है।

मुमकिन नहीं था जो अब वो चमत्कार हुआ है।
थोड़ा थोड़ा प्यार हुआ है मुझे पहली बार हुआ है।

चलता था बेफिक्र हो अनंत दुनिया में आत्म का अब ज्ञान हुआ है
दिल के दबे अंधेरों में फिर से उजियार हुआ है
थोड़ा थोड़ा प्यार हुआ है
मुझे पहली बार हुआ है

पीछे पड़ा रहा मैं चारों तरफ हसीनों के,
दिल तो जीत लिया उसने जो आई थी ले कर भींगे फेस पसीनो के
,

घबराया सा चेहरा था इमानदारी का उस पर पहरा था,
भा गई वो दिल को मेरे जो अब
तक नहीं यार हुआ है

साधारण सी दुनिया में मसालेदार बवाल हुआ है
थोड़ा थोड़ा प्यार हुआ है मुझे पहली बार हुआ है

पसंद नहीं था पिंक कलर पर गुलाबी सा बुखार हुआ है
संघर्ष भरे इस जीवन में कोई ना उपचार हुआ है

जब जाकर मैंने सुनाया उसको दिल का हाल मेरा,
वक्त लगा था उसको होने में एहसास मेरा,
थोड़ा थोड़ा प्यार हुआ है
मुझे पहली बार हुआ है

मिलकर दोनों के आने से सफेद जीवन में पीला सा फूहार हुआ है
साल 2 साल में न
न्हा मुन्ना सा परिवार हुआ है

मिला नहीं था जीवन में वह खुशियों का बौछार हुआ है
जो सपने अधूरे थे पल भर में वो सारा साकार हुआ है
थोड़ा थोड़ा प्यार हुआ है मुझे पहली बार हुआ है

सत्य अहिंसा की राह पर चलने का विचार हुआ है
आए जो छोटे मेहमान मन में उनको घुमाने का एक अच्छा सा संसार हुआ है

Thoda Thoda Pyar Hua Hai

लेकर हाथों में हाथ अपनों का ए जीवन सारा साकार हुआ है
थोड़ा थोड़ा प्यार हुआ है मुझको पहली बार हुआ है


कविता का नैतिक Thoda Thoda Pyar Hua Hai

अपने दिल की भावनाओ को आप अपने चाहने वालो को बताने से चूक जाते है कई बार जो की हमे नहीं करना चाहिए हमे दिल में जो भी प्यार हो जो किसी के लिए हो, उसे इजहार करना चाहिए अपने साथी के साथ, कई बार ऐसा होता है की हम लोग समझ भी नहीं पाते कि ये जो फीलिंग है ये क्या है इसका मतलब क्या है, क्यों की इस तरह की फीलिंग पहली बार हो रही होती है, और प्यार तो धीरे धीरे ही होता है अचानक होता भी नहीं है, थोड़ा थोड़ा प्यार हुआ है, इस कबिता (Thoda Thoda Pyar Hua Hai) से आपको अपने प्यार को समझने और उसको जताने का एक अच्छा तरीका प्रदान करने में मदद करेगा ऐसा हमें उम्मीद है, और आपको खुश रहने और अपने जीवन साथ को ख़ुशी देने में प्रेरक होगा.


अगर आपको ये कबिताये पसंद आया तो इसे अपने दोस्त मित्र और सगे संबंधियों के साथ साझा करे और साथ ही अपने मन में जो भी विचार हो उसे भी कमेंट कर के हमारे साथ अपने सवाल संदेह और सुझाव पहुचाये हमारी टीम आपके सुझाव के अनुसार आगे और नयी नयी कविताये आपके सामने प्रस्तुत करने के लिए प्रतिबंधित है.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button